हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री नितीश कुमार का करारा जवाब, कहा- झारखंड और बिहार एक परिवार के जैसा.. राजनीतिक मकसद से कुछ लोग बयान दे देते हैं…

हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री नितीश कुमार का करारा जवाब, कहा- झारखंड और बिहार एक परिवार के जैसा.. राजनीतिक मकसद से कुछ लोग बयान दे देते हैं…

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के भोजपुरी और मगही को लेकर दिए गए बयान पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दी प्रतिक्रिया. उन्होंने कहा कि, एक परिवार की तरह है झारखंड और बिहार. यहां और वहां के लोगों में कोई फर्क नहीं. भाषा को लेकर विवादित बयान का हो सकता हैं राजनीतिक मकसद.

द दैनिक बिहार, डेस्क : झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के भोजपुरी और मगही को लेकर दिए गए विवादित बयान पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रतिक्रिया दी हैं. उन्होंने कहा कि, झारखंड बिहार से ही निकला हुआ राज्य है. और यहां-वहां के लोगों में कोई फर्क नहीं है. मुख्यमंत्री ने बताया कि, आज भी बिहार के कई ऐसे परिवार हैं जिनके लोग झारखंड में रहते हैं. हालांकि, भाषा को लेकर जिस तरह के विवादित बातें कही गई उसका राजनीतिक मकसद हो सकता है.


बता दें कि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि, बिहार से झारखंड जब अलग हुआ था तो यहां मायूसी छाई हुई गई थी. ऐसा लग रहा था जैसे बिहार का बहुत कुछ छीन गया है. लेकिन धीरे-धीरे अपने संसाधनों से बिहार में विकास की रफ्तार बढ़ी और आज हम झारखंड की तरफ पलट कर देखते भी नहीं है. उन्होंने कहा कि, झारखंड और बिहार के विकास में कितना फर्क है ये सबको पता है. इसके बावजूद हमारी संवेदनाएं झारखंड के साथ से है. ये दोनों राज्य कभी अलग नहीं हो सकता । दोनों राज्यों के लोगों के बीच ऐसे संबंध हैं जो पारिवारिक भी हैं और व्यवसायिक भी हैं.

कोरोना टीकाकरण अभियान की नई उपलब्धि को लेकर सीएम ने की ख़ुशी जाहिर

मुख्यमंत्री ने कहा कि, हमारे राज्य में भी पश्चिम बंगाल से सटे इलाकों में बांग्ला भाषा बोली जाती है. इसका ये अर्थ नहीं की हम किसी भाषा को लेकर आपत्तिजनक बात करे. कुछ लोग राजनीतिक मकसद से ऐसा करते रहते हैं. उन्होंने बिहार और झारखंड के बीच परस्पर प्रेम की बात दोहराया. और राज्य बिहार में कोरोना टीकाकरण अभियान की नई उपलब्धि को लेकर अपनी खुशी जाहिर किया.


आज जनता दरबार के बाद मिडिया से बातचीत करते हुए सीएम ने कहा कि, जिन राज्यों में कोरोना का संक्रमण फैला हुआ है उन राज्यों से आने वाले लोगों की कोरोना जांच का प्रबंध किया गया है. ताकि राज्य में कोरोना संक्रमण नहीं फैले. उन्होंने कहा कि, बिहार में टीकाकरण का काम युद्धस्तर पर चल रहा है. इसे लेकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है, और जो कोरोना वैक्सीन का पहला खुराक ले चुके है उन्हें दूसरा खुराक के लिए प्रेरित किया जा रहा है.

विश्वकर्मा पूजा के दिन 33 लाख से अधिक लोगों ने कराया टीकाकरण

साथ ही सीएम ने कहा कि, बिहार में छह महीने में छह करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन ज्यादा टीकाकरण करेंगे. टीकाकरण का काम तेजी से चल रहा है. और केंद्र सरकार के द्वारा तेजी से वैक्सीन की सप्लाई की जा रही है. उन्होंने बताया कि, 17 सितंबर को विश्वकर्मा पूजा था उसी दिन बारिश भी हो रही थी इसके बावजूद 33 लाख से अधिक लोगों ने वैक्सीन लगवाया.
वही, हेमंत सोरेन के बयान पर मुख्यमंत्री ने कहा कि, बिहार तो पहले एक ही था. बिहार के लोगों को झारखंड के लोगों के प्रति जो प्रेम है वही झारखंड के लोगों का बिहार के लोगों के प्रति प्रेम है. और बिहार और झारखंड दोनों भाई है. इस पर किसी को बोलने की आवश्यकता नहीं है. दोनों राज्य एक ही परिवार के सदस्य है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *