आखिर कॉंग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन क्यों थाम लिए राहुल के करीबी जितिन प्रसाद ?..

आखिर कॉंग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन क्यों थाम लिए राहुल के करीबी जितिन प्रसाद ?..

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पूर्व मंत्री जितिन प्रसाद ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। जितिन प्रसाद ने कहा कि भाजपा ज्वाइन करने का फैसला कोई क्षणिक नहीं है। बल्कि लंबे वक्त से इस तरह की मांग की जा रही थी।

रिया पांडेय, द दैनिक बिहार, : कांग्रेस पार्टी से सांसद और यूपी सरकार में मंत्री रहे जितिन प्रसाद ने आज दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए ये एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और भाजपा सांसद अनिल बलूनी की मौजूदगी में प्रसाद ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। कहा जा रहा है कि, जितिन के जरिए भाजपा में आने से चुनाव से पहले ब्राह्मणों के बीच अपनी पैठ बढ़ाने की कोशिश करेगी।

कहा- देश हित में काम करने वाली केवल बीजेपी
जितिन प्रसाद का कहना है कि अगर किसी दल में रह कर जनता की सेवा नहीं हो सकती तो ये फैसला लेना पड़ा। बीजेपी देशहित और आने वाली पीढ़ियों के हित में काम कर रही है , ऐसे में मैं उनके साथ  जुड़ गया हूं।
जितिन ने कहा कि न  किसी पद और न  किसी व्यवहार के लिए ये सब किया है,  कांग्रेस पार्टी अब जनता से दूर हो गई है और वो जनता की भावनाओं के अनुरूप काम नहीं कर पा रही है।  हमारी ऊर्जा व्यर्थ हो रही है,  हम चुनाव लड़े लेकिन हार गए क्योंकि लोगों में पीएम मोदी के लिए भावना है।  जितिन प्रसाद ने कहा कि जिस प्रदेश से मैं आता हूं , वहां कांग्रेस का कोई महत्व नहीं है।
बीजेपी नेता जितिन प्रसाद ने कहा कि राजनीति में होते वक्त देश के बारे में भी सोचना होता है,  देश की सुरक्षा देशहित में अभी भाजपा ही काम कर रही है।

गोयल ने कहा : पीएम मोदी से प्रभावित होकर पार्टी जॉइन की
पियूष गोयल ने कहा, ‘आज जितिन प्रसाद हमारे बीच में है। ये उत्तर प्रदेश के नेता है। भाजपा की नीति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर हमारी पार्टी में आ रहे हैं। ये कांग्रेस संगठन में कई पदों पर काम कर चुके हैं। मंत्री भी रहे हैं।
गोयल ने कहा- जितिन प्रसाद ने बहुत छोटी आयु से उत्तर प्रदेश की सेवा में अपना पूरा जीवन झोंक दिया है। अभी भी मुझे याद है कि इनकी उम्र 27 वर्ष की थी, जब अचानक इनके पिताजी का देहांत हो गया था। तब ये मुंबई में काम करते थे।  दिल्ली के श्रीराम कॉलेज से ये पढ़ाई कर चुके हैं। छोटी सी उम्र में परिवार को झटका लगा। इन्होंने छोटी आयु में ही उत्तर प्रदेश में दौरा किया। अलग-अलग जिलों में जाकर अपनी प्रतिभा और काम से लोगों का दिल जीता। शाहजहांपुर से सांसद बने। उन्होंने उत्तर प्रदेश की राजनीति में जो भूमिका निभाई, वो हम सबने देखी है।

दिशाहीन हो गई है कांग्रेस पार्टी:

जितिन प्रसाद
जितिन ने कहा कि अब मैं बीजेपी का सदस्य हूं, ऐसे में वहां क्या होना है वो ही तय करेंगे। पिछले 6- 7 साल में कांग्रेस से लगातार गिरावट हुई है। मैंने कई बार अपनी बात रखने का प्रयास किया,  लेकिन वहां सुनवाई नहीं हुई।  कांग्रेस दिशाहीन हो गई है।जितिन ने कहा कि कांग्रेस को छोड़ने का फैसला मुश्किल था,  क्योंकि तीन पीढ़ियों  का जुड़ाव रहा है। जितिन प्रसाद ने कहा कि ‌ वो कोई डील करके नहीं आए हैं , बल्कि आगे की राजनीति उनकी अब बीजेपी के साथ ही रहेगी।  जो काम दिया जाएगा वो करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *