राज्य में अब नहीं होगा दंगा, इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजेगी बिहार पुलिस…

राज्य में अब नहीं होगा दंगा, इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजेगी बिहार पुलिस…

राज्य में अब दंगा नहीं होगा. बिहार पुलिस ‘दंगा’ शब्द को राज्य से हटाने की तैयारी में जुट गई हैं. पुलिस दंगा शब्द को दूसरे रूप में नामांकित करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजने जा रही हैं. वही, बिहार पुलिस के इस प्रस्ताव को राज्य के गृह विभाग ने अपनी मंजूरी दे दी हैं। पिछले दिनों गृह विभाग द्वारा की गई समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने पुलिस और गृह विभाग से संबंधित कई प्वाइंट्स पर भी गाइडलाइन जारी किए हैं.

द दैनिक बिहार, डेस्क : बिहार पुलिस ‘दंगा’ शब्द को राज्य से हटाने की तैयारी में जुट गई हैं. पुलिस दंगा शब्द को दूसरे रूप में नामांकित करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजने जा रही हैं. बता दें कि, बिहार पुलिस के नियमों के अनुसार अबतक पांच या उससे अधिक व्यक्ति अगर हथियार से लैस होकर मारपीट करते हैं तो ये दंगा की श्रेणी में आता है। और ये सार्वजनिक जगह पर हो या किसी निजी स्थान पर दोनों ही स्थिति में इसे दंगा कहा जाता हैं. और इस परिस्थिति में आईपीसी की धारा 147, 148, 149 लगायी जाती है।
मालूम हो कि, बिहार पुलिस को दंगा शब्द से परेशानी हैं. मारपीट भले ही छोटे समूह में हो लेकिन दंगा जैसे भारी-भरकम शब्द का प्रयोग किया जाता हैं. इससे अधिकांश  मामलों में लोग दंगा को सांप्रदायिक हिंसा भी समझ लेते हैं।

क्या होगा केंद्रीय गृह मंत्रालय का फैसला?

ये भी एक वजह है कि दंगा को दूसरे रूप में नामांकित करने के लिए पुलिस मुख्यालय ने ये प्रस्ताव दिया है। और गृह विभाग की समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने इसके अलावा कई बिंदुओं पर कार्रवाई के निर्देश भी दिए गए हैं. इसके साथ ही कुछ मामलों में रिपोर्ट भी जारी की गई हैं. हालांकि बिहार सरकार की ओर भेजे गए इस प्रस्ताव पर केंद्रीय गृह मंत्रालय क्या फैसला लेता है. ये देखने वाली बात होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *